9789387792470 Flipbook PDF


59 downloads 101 Views 2MB Size

Recommend Stories


Porque. PDF Created with deskpdf PDF Writer - Trial ::
Porque tu hogar empieza desde adentro. www.avilainteriores.com PDF Created with deskPDF PDF Writer - Trial :: http://www.docudesk.com Avila Interi

EMPRESAS HEADHUNTERS CHILE PDF
Get Instant Access to eBook Empresas Headhunters Chile PDF at Our Huge Library EMPRESAS HEADHUNTERS CHILE PDF ==> Download: EMPRESAS HEADHUNTERS CHIL

Story Transcript

Copyright © 2018 Sarita Patel All rights reserved All rights reserved by author. No part of this publication may be reproduced, stored in a retrieval system or transmitted in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise, without the prior permission of the author. First Published in February 2018 Blue Rose Publishers www.bluerosepublishers.com [email protected] +91 8882 898 898 ISBN: 978-93-87792-47-0

Cover Design: Shardool Vikraam Singh Layout Design: Saakshi Kaushal Editor: Rashid Mustafa Distributed by: Blue Rose, Amazon, Flipkart, Shopclues

म! यह "उप'यास "अपने माता-.पता को सम.प1त करती हूं। िजनके 9नेह, :यार और समथ1न के =बना यह मुम@कन नहAं हो पाता। उ'हBने जो कुछ भी @कया मेरे Eलए, उसका ध'यवाद कर पाना असंभव है । ध'यवाद मुझे Mन9वाथ1 :यार और ममता दे ने के Eलए, ध'यवाद मझ ु े उस घर मO जगह दे ने के Eलए, जहां आपने मुझे िजंदगी के तमाम गुर Eसखाए और सं9कारB को मेरे जीवन मO उतारे । जहां आपने अपने सारे बSचB को हं सी - खश ु ी और Eमल कर रहना Eसखाया। म! आपसे अSछे माता .पता और आदश1 कV कWपना नहAं कर सकती। हे ईYवर! आपका भी ध'यवाद @क आपने मुझे ऐसे माता-.पता [दए, और मेरे हर कदम पर मेरे साथ रहे ।

बकता बदन भाग -1

बकता बदन

कल-कल बहती न[दयाँ मO पैरB को डालना बड़ा सक ु ू न भरा होता है । @कनारे कV लंबी-लंबी घास पर पैरB को झुलाये हुए म! बस यह सोच हA रहA थी, तभी @कसी ने आकर पीछे से ध_का [दया, `ाकृMतक सbदय1 से cयान हटा तो म!ने पीछे मड़ ु कर दे खा :"अरे रिYम, तू कब आई ?" "जब तम ु इस नदA कV लहरB मO [हलोरO खा रहA थी", रिYम ने हँसते हुए जवाब [दया । म!ने भी जोर का ठहाका लगा [दया । "अरे नहAं बस यँू हA थोड़ी दे र बैठने का मन @कया था ।" "हाँ-हाँ, सब जानती हूँ बहाने तेरे, पता नहAं @कसके gयालB मO खोयी हुई थी ?" "लो शh ु हो गयी इसकV `ेम-वाणी ....!!!" "तो इसमO बरु ाई _या है ?" अपनी बातB पर रिYम ने बल दे ते हुए कहा, कुछ बरु ाई नहAं है मेरA माँ, चल अब घर चलते ह! । म!ने रिYम का हाथ थामा और दोनB घर कV ओर चल [दए । म!ने घर के चौखट पर पैर डाला हA था @क तभी दाद ू ने आवाज़ लगाई "अरे ओ मीरा कहाँ मर गयी थी ? कब से राह दे ख रहा हूँ, कोई एक 1

बकता बदन

लोटा पानी भी नहAं पछ ू ता मझ ु े ।" खाट पर पड़े-पड़े अपना सारा ग9 ु सा मझ ु पर हA उड़ेल [दया मानो । "अभी लाई दाद,ू तम ु इतना ग9 ु सा मत @कया करो, सेहत और =बगड़ जायेगी ।" "अSछा होता @क भगवान उठा लेता मझ ु ,े खाट पर पड़े-पड़े दम घट ु ता है मेरा ।" "ऐसा नहAं कहते दाद,ू अभी तो आपको दो सौ साल और जीना है ।" "हा...हा, _या कhँगा और इतने साल जी के? तेरA दादA भी तो नहAं है , वो रहती तो सोचता भी, पर छोड़ो ये सब, अब तो दो [दन का मेहमान हूँ =ब[टया, एक हA तम'ना है [दल मO , बस तेरे हाथ पीले होते हुए दे खूं ।" "पीले होते हुए !" "हाँ पगलA, तेरA शादA दे ख ल,ूं बस यहA gवा[हश है ।" "_या दाद,ू आप भी ना !!!" "ओह ! आपको @फर से खांसी होने लगी, आराम से लेट जाओ, nयादा बातO मत करो ।" मेरे दाद ू [दल से बहुत नाजक ु @क9म के इंसान ह! । बहुत लाड़ से पाला है मझ ु े । जब से आँख खुलA तब से बस दाद ू और बाबज ू ी को दे खा है म!ने । ना दादA को दे खी, ना हA माँ को । दाद ू कहते ह! – तेरA 2

बकता बदन

माँ को oयाह के लाने के कुछ हA महAनB बाद वो चल बसी और मेरA माँ मझ ु े ज'म दे कर । हाँ, एक सौतेलA माँ भी है मेरA और दो भाई भी पर इन सब के होते हुए भी मेरे Eसफ1 दाद ू ह!। _यB@क दाद ू के अलावा और @कसी का :यार Eमला हA नहAं । "आ गयी महारानी, काम–वाम भी कुछ करना है या [दन भर बस गEलयB मO नैन-मट_का करना है । _यB जी सन ु रहे हो....कह हA दे ती हूँ संभाल लो बेटA, कहAं हाथ से ना Mनकल जाए !" "नहAं माँ, म! तो रिYम के साथ थी, हमलोग न[दयाँ @कनारे बैठे हुए थे ।" "मँह ु बंद रखो तम ु अपना, बड़ी आई, रिYम के साथ थी !! पता नहAं है , गांव कV औरतO कहती ह! – गांव के सारे छोरB से टांका Eभड़ा है उसका, एक नंबर कV बदचलन लड़कV है और तू उसके साथ घम ू रहA है ? नाक कटवा के छोड़ेगी _या हमारा ?" "नहAं माँ, रिYम ऐसी नहAं है – सारे छोरO पड़े ह! उसके पीछे , अब वो इतनी स' ु दर है तो उसमO उसकV _या गलती !"

"दे खो, अब तो जुबान भी चलाने लगी है कैची कV तरह, एक बात कान खोल कर सन ु लो मीरा, िजतना कहा जाए उतना हA सन ु ो और करो, तेरA मनमानी नहAं चलेगी इस घर मO ।" "हाँ यहाँ तो बस तेरA हA चलती है ।" म!ने मन हA मन कहा । 3

बकता बदन

"_या कहा तम ु ने ?" "जी म!ने ! कुछ नहAं तो..... ।" बाप रे , इसके तो कान भी बहुत तेज ह!, संभल कर रहो मीरा, नहAं तो कचूमर Mनकाल दे गी ये तेरा ।

लpमी दे वी, माँ है मेरA, माफ कVिजयेगा, सौतेलA माँ । जैसा नाम =बWकुल उसके .वपरAत काम । अपने @करदार मO एकदम @फट बैठती ह! । सौतेलA होने के िजतने दाMयqव होते ह!, इ'हBने हँस-हँस के Mनभाए ह! अभी तक । मझ ु े डाँटना, मारना-पीटना से लेकर 9कूल तक ना Eभजवाना और घर के सारे काम गधो कV तरह करवाना, सब बहुत हA Mनपण ु तरAकB से @कया इ'हBने, मानो मायके से हA rे Mनंग लेके आई हो । खैर छोsड़ये, इसे .वYव कV २० वी अजूबB मO शाEमल कर लेना चा[हए और रहA बात :यार कV तो वो तो Eमलते हA रहता है मझ ु े इनसे पर मझ ु े रqती भर भी नहAं हुआ इनसे । हे भगवान ! _यूँ दस ू रA शादA @कये थे मेरे बाबज ू ी ? @कये तो अSछा हA @कये पर मझ ु े मार हA डालते तो nयादा अSछा होता !! "अरे ओ कामचोर, अभी तक आँगन मO हA बैठv है , _या wखचड़ी पका रहA है [दमाग मO , कहAं @कसी के साथ भागने का इरादा तो नहAं ? चल, जWदA आ रसोई मO और आंटे गथ ूं ।"

4

बकता बदन

"हाँ माँ, अभी आई ।" मन तो करता है आंटे कV तरह हA गथ ूं ू इसे, म!ने मन हA मन ग9 ु सा Mनकाला । "बाबज ू ी ये लो खाना, कहाँ रख दं ू ?" "सर पे रख मेरे और कहाँ रखोगी ? नींद खराब कर दA मेरा, दे ख नहAं रहA है , सो रहा हूँ, रख दे खाट के नीचे, उठूंगा तो खा लँ ग ू ा ।" "ठvक है पर खा लेना ...।" "हाँ ....अब जा त,ू [दमाग मत खा मेरा ......।" "हुंह .....[दमाग है जो खाऊंगी, शराब पीने से फुस1त Eमलेगी तब तो खाना खायOगे? खैर मझ ु े _या ? खाओ, मत खाओ, म! होती हूँ कौन कुछ भी बोलने वालA ?" मन कV भड़ास बस खुद को हA सन ु ा के म! चलA गयी, @कसी को सन ु ाऊँ भी तो _या ? यहाँ मेरA बात सन ु ता हA कौन है ? "दाद.ू ...लेटे रहो लेटे रहो, @कतनी बार बोलA हूँ खुद से कुछ मत @कया करो ......म! खाना ला हA रहA थी ना, लो तy ु हारा लोटा, पी लो पानी ....।" "हाँ =ब[टया, तेरे होते हुए कुछ नहAं होगा मझ ु े ।"

5

बकता बदन

"वो तो ठvक है दाद ू पर थोड़ा अपना cयान रखा करो, म! हर व_त आपके पास तो नहAं रहती ना और आपको कुछ हो गया तो मेरा _या होगा ? है हA कौन मेरा अपना इस घर मO ?" "अरे पगलA, म! मर थोड़े हA गया हूँ जो मगरमSछ के आंसू बहा रहA है ।" "हा...हा.....हा.... ।" "_या दाद,ू आप तो ऐसी बातO मत करो ।" "अSछा-अSछा ठvक है , म! तो सोच रहा हूँ, एक दादA लाऊं तेरे Eलए ।" "हा...हा...हा...दादA !" "हाँ, _यूँ हँस रहA है ? _या म! दादA भी नहAं ला सकता तेरे Eलए ?" "हाँ दाद,ू जhर लाओ और जWदA लाओ, हा ...हा....हा....।" "ऐसे हA wखलwखलाते रहो =ब[टया, तेरे चेहरे पर उदासी =बWकुल अSछv नहAं लगती ।" "अSछा अब तम ु और बातO मत बनाओ, म! =बWकुल ठvक हूँ, लाओ म! तy ु हO खाना wखला दं ू ।" "तम ु ने खाया =ब[टया ?" ंू ी ।" "नहAं दाद,ू तy ु हO wखला दं ,ू @फर म! खा लग

6

बकता बदन

"अSछा ठvक है wखला दे । जब तू अपने ससरु ाल चलA जायेगी तब कौन रखेगा मेरा इतना gयाल ?

सन ू ा–सन ू ा हो जाएगा यह

आँगन....... मीर ।" "दाद.ू .. यह सब बातO मत @कया करो, म! तy ु हे छोड़ कर कहAं नहAं जाने वालA हूँ समझे । चुपचाप से खाओ, बहुत बोलने लगे हो तम ु ....।" "हा...हा...हा...अSछा–अSछा अब म! कुछ नहAं बोलग ूं ा ।" "अरे वाह-वाह..... यहाँ तो :यार कV न[दयाँ बह रहA है , म! भी डुबकV लगा लंू _या ? काम के ना काज के, खालA दYु मन अनाज के, एक तो सो-सो के खाट तोड़ रहे ह! और दस ू रA सर पे बोझ बनकर बैठv है , जहाँ जाती है वहAं रह जाती है , कामचोर कहAं कV..... जWदA से अंदर आ, बरतन कौन साफ़ करे गी? तेरA अyमा, जो नरक मO है ?" "अब एक हA सांस मO सब बोलेगी _या माँ? थोड़ी सास भी ले लो !" "बहुत मह ुं चलने लगा है तेरा, जुबान खींच लग ूं ी ।" "चुप रह =ब[टया इस चुड़ल ै से _यूँ मह ुं लगाती हो ? इसका [दमाग तो {|ट है हA, तू अपना ना @कया कर ।" "पर दाद,ू दे खो ना _या बोलती है ... मेरA अyमा नरक मO है ?" "नहAं मीरा, वो तो 9वग1 कV रानी होगी, बड़ी @क9मत वालB को तेरA अyमा जैसी बहु नसीब होती होगी । तू इसकV बातB मO cयान मत दे , कान बंद करके बस अपने काम पे cयान दे ।" 7

बकता बदन

"ठvक है दाद.ू .....।" "अभी तक यहAं पड़ी है तू ? म! तो कुऐं से पानी भी ले आई। अब चलती है या दो थ:पड़ लगाऊं ?" "जान हA ले लो मेरA, सारा खेल हA खqम ।" पता नहAं मन कV बात अंदर हA _यूँ रह जाती है ? "हाँ माँ, मटका दो मझ ु ,े म! अंदर कर दे ती हूँ ।" "रहने दे , बड़ी आई.... उतनी दरू से लायी तो अब अंदर न कर पाऊँगी _या ? चापलस ू ी करने चलA है ।" "उफ़ ...इसके सामने तो कुछ बोलना हA गन ु ाह है ।" "तम ु ने कुछ कहा ?" "नहAं माँ, चलो अंदर बत1न धोने ह! ।" "अरे =ब}ू ~क जा, अभी झाडू लगाई हूँ आँगन मO , तू @फर से ग'दगी मत फैला ।" "_यB-_यB ? म! तो यहAं खेलग ंू ा, तू @फर से लगा लेना ....।" "त–ू तू _या लगा रखा है ? म! तेरA दAदA हूँ ।" "हा–हा दAदA और तू ? म! ना बोलँ ग ू ा जो करना है कर ले...।"

8

बकता बदन

"अSछा दं ू कान के नीचे एक ? एकदम अपनी माँ पे गया है , नालायक कहAं का । चल भाग यहाँ से, 9कूल नहAं जानी _या ? दे ख गोपू तो जा रहा है ।" "तो तू शोर _यूँ मचा रहA है ? जाने दे उसको ।" "अSछा तो तू इधर नौटं कV कर रहा है , ~क अभी, बताती हूँ बाबज ू ी को ।" "ओ महारानी ~क–~क ।" "दे ख =ब}ू, छोड़ मेरA चोटA, बहुत दःु ख रहा है , मार खा जायेगा ।" "और जायेगी बाबु जी के पास, बोल ?" "तू ऐसे नहAं मानेगा, बाबज ू ी बाबज ू ी..... ।" "_या हुआ •चWला _यँू रहA है ?" "बाबज ू ी दे खो ना, =ब}ू मेरA चोटA खींच रहा है ।" "नहAं बाबज ू ी, इसने मझ ु े पहले मारा था, तो म!ने इसकV चोटA खींची ।" "@कतना झूठ बोलता है , कब मारा म!ने ?" "तू झूठv, बाबज ू ी ये झूठ बोल रहA है , इसी ने पहले मारा था।" "चुप हो जाओ तम ु दोनB, जब दे खो लड़ते रहते हो ।"

9

Get in touch

Social

© Copyright 2013 - 2024 MYDOKUMENT.COM - All rights reserved.